Halaman

    Social Items

dant dard ka ilaj


दांत दर्द का इलाज और घरेलु नुक्से, दाँतों में दर्द होना अब यह आम समस्या बन चूकी है आज के समय में किसी भी व्यक्ति को यह समस्या हो सकती है इसके कारण अनेक हो सकते है जैसे दाँत में खोदाड़ होना, दाँत के सभी हिस्सों तक ब्रश न पहुंचना, मसूड़ों का कमजोर होना, इत्यादि।
बच्चों के दाँत में अक्सर ही कीड़े लग जाते हैं। बड़े व्यक्ति के दाँतों में भी इसकी शिकायत देखी जाती है।
जब भी दाँत में दर्द उठता तो ऐसा लगता है जैसे इससे बड़ा दर्द कुछ और हो नहीं सकता है , कभी-कभी तो यह दर्द हमारे सिर में तो कभी कान और जबड़े में इस तरह होती है जो असहनीय होती है और हम बस दांत दर्द कैसे ठीक करें तुरंत इलाज ढूँढ़ते है।

आप इस आर्टिकल में दाँत दर्द का इलाज मुख्यतः 3 उपाय के बारे में जानेंगे।
  1. Dant dard ka ilaj
  2. Dant Dard Ka Gharelu Upay kya hai ?
  3. दाँत दर्द का प्राकृतिक रूप से उपचार

Dant dard ka ilaj

सबसे पहले तो आप कुछ बुरी आदतों को छोड़ दें ,
  • जब भी कुछ भोजन करें तो कुल्ला करने की आदत डालें इससे आपके दाँतों में बैक्टीरिया नहीं लगेंगे। और दाँतों में लगे कीड़े बढ़ नहीं पाएंगे।
  • बोतल से पानी पीने वाली आदत छोड़े , पानी हमेशा ग्लास से पिए , बोतल से पानी सीधे आपके दाँतों में जाती है और यह आपके दाँत को कमजोर करती है।
  • दाँत की समस्या(Sensivity) होने पर ज्यादा ठंडा या गरम पानी न पिए।

1फिटकरी से दांत दर्द का इलाज
"दाँत दर्द से राहत पाने के लिए आपको एक बेहतरीन उपाय के बारे में बताने वाले है जिससे आपको 2 मिनट के अंदर दाँत का दर्द गायब हो जायेंगे। आपको फिटकरी का एक छोटा सा टुकड़ा लेना है और इसे 1 Cup पानी में अच्छी तरह मिला लें , जब फिटकरी पानी में घुल जाये तब इस पानी को मुँह में लेकर अंदर धीरे-धीरे 2 से 3 मिनट तक हिलाते रहे (कुल्ला करें ) , जिस दाँत में अधिक दर्द है पानी को वहाँ अधिक समय तक रखें फिर पानी बाहर निकाल दें। बस इसी परिक्रिया से पानी को ख़त्म करें, इससे दाँत दर्द में तुरंत आराम मिलेगा।"

▪ 10 Natural Tips बालों को सीधा कैसे करे Hair Straightening Tips in Hindi
▪ 50+ आसान नुक्से अस्थमा का इलाज़ कैसे करे (घरेलु एवं आयुर्वेद उपचार)

Dant Dard Ka Gharelu Upay kya hai ?

दाँत दर्द की समस्या मसूड़ों के कमजोर हो जाने से होती है प्रातः काल उठने के बाद सबसे पहले अपनी मुँह के लार से मसूड़ों को ऊँगली से रोजाना मालिश करें।

2नमक
गुनगुना पानी में थोड़ी सी नमक डालकर इस पानी से कुल्ला करने से दन्त दर्द में तुरंत आराम मिलता है जब दांतों में अधिक परेशानी हो तो यह उपचार दिन में 3 से 4 बार करें।

3लौंग
दांतों के दर्द में तीन चार लौंग को महीन चूर्ण बनाकर दांतों के दर्द वाले हिस्से में रखने से दांत दर्द दूर हो जाता है।

4सरसों तेल, हल्दी और नमक
सरसों तेल, हल्दी और नमक इन तीनों का एक चमच भर पेस्ट बना कर दांतों एवं मसूड़ों पर मसाज करने से दांत दर्द से छुटकारा मिल जाता है इसके साथ ही मसूड़े मजबूत हो जाते है

दाँत दर्द का प्राकृतिक रूप से उपचार

दांतों में ठंडा या गरम पानी लगता है , मसूढ़ों से खून आता है , दांत हिलते है , दन्त पीले पड़ गए है और दांतों में दर्द रहता है तो इनकी प्राकृतिक तरीके से देखभाल करें।

5माजूफल से इलाज
माजूफल से दांतों का प्राकृतिक रूप से उपचार होता है। माजूफल को खूब महीन पीसकर रोजाना सुबह - शाम इससे दांतों को मलें। इसके साथ ही धीरे-धीरे मसूढ़ों की भी मालिश करें। इससे दांतों में पानी लगना दूर होता है और कमजोर दांतों में भी मजबूती आ जाती है। मसूढ़ों से खून आने की शिकायत होती है तो वह भी दूर हो जाती है।

6सरसों का तेल और सेंधा नमक
दांतों के लिए सरसों का तेल और सेंधा नमक का मिश्रण भी गुणकारी है। सेंधा नमक को खूब बारीक़ पीसकर उसे सरसों के तेल में हथेली पर लेकर अच्छी तरह मिला लें। फिर ऊँगली की सहायता से दांतों सहित मसूढ़ों की भी धीरे-धीरे मालिश करें। इससे दांतों का हिलना ठीक होकर उनमें मजबूती आती है। दांतों में पानी लगने की शिकायत दूर होती है और उनका पीलापन दूर होता है।

7अकरकरा का बारीक़ चूर्ण
अकरकरा का बारीक़ चूर्ण मसूढ़ों पर मलने और कीड़े लगे खोखले दांतों की जड़ में लगने से कृमि नष्ट होकर दर्द बंद हो जाता है। यह औषधि आयुर्वेद दुकानों में या पतंजलि स्टोर में उपलब्ध होती है।

Dentist's सुझाव

जब आप डॉक्टर के पास जाते है तो वो आपको दाँत उखाड़ने या दाँत में RCT (Root Canal Treatment) करवाने की सलाह देते है और क्यूंकि RCT थोड़ी महंगी परिक्रिया है इसलिए हम से कई लोग इसे अफ़्फोर्ड नहीं कर पाते है और दूसरा विकल्प हमारे पास दाँत उखाड़ने की होती है जो हम निकालना नहीं चाहते है।
आइये dentist RCT कैसे करते है इसकी परिक्रिया को समझते है।

Dant Dard ka ilaj

सबसे पहले स्थान पर जो इमेज है वो एक नॉर्मल दाँत की है हमारा दाँत भी इसी प्रकार से बना हुआ है आप देखेंगे की जो पहली सफ़ेद लेयर है जो कि Enamel है, दूसरा लेयर जो कुछ पीली रंग का दिखाई पड़ रही है उसे Dentin कहा जाता है और जो तीसरी लेयर है जिसमें आपकी दाँतों की नशे है Pulp chamber कहते है।

जब दाँतों की पहली सफेद लेयर Cavities लगने पर डैमेज हो जाती है तब कुछ भी खाने पर यह सीधा Dentin पर नुकसान पहुँचता है और धीरे-धीरे यह दाँत के नशों तक चला जाता है फिर खाने की कुछ भी वास्तु अगर नस तक पहुँचती है तो दर्द होना शुरू हो जाती है।
और यह नशे आपकी कान और शिर जुड़ी होती है इसलिए अक्सर दाँतों के दर्द से सिर या कानों में भी दर्द होती है। यदि आप इस परेशानी से जूझ रहे है तो आप बेहतर समझ सकते है।
समय पर दाँतों की ठीक तरह से देखभाल नहीं करने से यह समस्या बढ़ती ही जाती है और धीरे-धीरे यह पूरी तरह से खोखले(खोदाड़) का रूप ले लेता है।

इस कंडीशन में डेंटिस्ट दाँतों का X ray कर इसके जाँच करते है फिर RCT की परिक्रिया शुरू करते है ,
इस परिक्रिया में दाँत के दोनों ऊपरी भाग में टूल के द्वारा सफाई कर वहां से लगे कीड़े (कैविटी) को बाहर निकालते है फिर उसके अंदर Cement(Chemical) रिफिलिंग करते है।

Dant dard ka ilaj hindi me अपनायें ये खास नुक्से दर्द मिनटों में होगा गायब

dant dard ka ilaj


दांत दर्द का इलाज और घरेलु नुक्से, दाँतों में दर्द होना अब यह आम समस्या बन चूकी है आज के समय में किसी भी व्यक्ति को यह समस्या हो सकती है इसके कारण अनेक हो सकते है जैसे दाँत में खोदाड़ होना, दाँत के सभी हिस्सों तक ब्रश न पहुंचना, मसूड़ों का कमजोर होना, इत्यादि।
बच्चों के दाँत में अक्सर ही कीड़े लग जाते हैं। बड़े व्यक्ति के दाँतों में भी इसकी शिकायत देखी जाती है।
जब भी दाँत में दर्द उठता तो ऐसा लगता है जैसे इससे बड़ा दर्द कुछ और हो नहीं सकता है , कभी-कभी तो यह दर्द हमारे सिर में तो कभी कान और जबड़े में इस तरह होती है जो असहनीय होती है और हम बस दांत दर्द कैसे ठीक करें तुरंत इलाज ढूँढ़ते है।

आप इस आर्टिकल में दाँत दर्द का इलाज मुख्यतः 3 उपाय के बारे में जानेंगे।
  1. Dant dard ka ilaj
  2. Dant Dard Ka Gharelu Upay kya hai ?
  3. दाँत दर्द का प्राकृतिक रूप से उपचार

Dant dard ka ilaj

सबसे पहले तो आप कुछ बुरी आदतों को छोड़ दें ,
  • जब भी कुछ भोजन करें तो कुल्ला करने की आदत डालें इससे आपके दाँतों में बैक्टीरिया नहीं लगेंगे। और दाँतों में लगे कीड़े बढ़ नहीं पाएंगे।
  • बोतल से पानी पीने वाली आदत छोड़े , पानी हमेशा ग्लास से पिए , बोतल से पानी सीधे आपके दाँतों में जाती है और यह आपके दाँत को कमजोर करती है।
  • दाँत की समस्या(Sensivity) होने पर ज्यादा ठंडा या गरम पानी न पिए।

1फिटकरी से दांत दर्द का इलाज
"दाँत दर्द से राहत पाने के लिए आपको एक बेहतरीन उपाय के बारे में बताने वाले है जिससे आपको 2 मिनट के अंदर दाँत का दर्द गायब हो जायेंगे। आपको फिटकरी का एक छोटा सा टुकड़ा लेना है और इसे 1 Cup पानी में अच्छी तरह मिला लें , जब फिटकरी पानी में घुल जाये तब इस पानी को मुँह में लेकर अंदर धीरे-धीरे 2 से 3 मिनट तक हिलाते रहे (कुल्ला करें ) , जिस दाँत में अधिक दर्द है पानी को वहाँ अधिक समय तक रखें फिर पानी बाहर निकाल दें। बस इसी परिक्रिया से पानी को ख़त्म करें, इससे दाँत दर्द में तुरंत आराम मिलेगा।"

▪ 10 Natural Tips बालों को सीधा कैसे करे Hair Straightening Tips in Hindi
▪ 50+ आसान नुक्से अस्थमा का इलाज़ कैसे करे (घरेलु एवं आयुर्वेद उपचार)

Dant Dard Ka Gharelu Upay kya hai ?

दाँत दर्द की समस्या मसूड़ों के कमजोर हो जाने से होती है प्रातः काल उठने के बाद सबसे पहले अपनी मुँह के लार से मसूड़ों को ऊँगली से रोजाना मालिश करें।

2नमक
गुनगुना पानी में थोड़ी सी नमक डालकर इस पानी से कुल्ला करने से दन्त दर्द में तुरंत आराम मिलता है जब दांतों में अधिक परेशानी हो तो यह उपचार दिन में 3 से 4 बार करें।

3लौंग
दांतों के दर्द में तीन चार लौंग को महीन चूर्ण बनाकर दांतों के दर्द वाले हिस्से में रखने से दांत दर्द दूर हो जाता है।

4सरसों तेल, हल्दी और नमक
सरसों तेल, हल्दी और नमक इन तीनों का एक चमच भर पेस्ट बना कर दांतों एवं मसूड़ों पर मसाज करने से दांत दर्द से छुटकारा मिल जाता है इसके साथ ही मसूड़े मजबूत हो जाते है

दाँत दर्द का प्राकृतिक रूप से उपचार

दांतों में ठंडा या गरम पानी लगता है , मसूढ़ों से खून आता है , दांत हिलते है , दन्त पीले पड़ गए है और दांतों में दर्द रहता है तो इनकी प्राकृतिक तरीके से देखभाल करें।

5माजूफल से इलाज
माजूफल से दांतों का प्राकृतिक रूप से उपचार होता है। माजूफल को खूब महीन पीसकर रोजाना सुबह - शाम इससे दांतों को मलें। इसके साथ ही धीरे-धीरे मसूढ़ों की भी मालिश करें। इससे दांतों में पानी लगना दूर होता है और कमजोर दांतों में भी मजबूती आ जाती है। मसूढ़ों से खून आने की शिकायत होती है तो वह भी दूर हो जाती है।

6सरसों का तेल और सेंधा नमक
दांतों के लिए सरसों का तेल और सेंधा नमक का मिश्रण भी गुणकारी है। सेंधा नमक को खूब बारीक़ पीसकर उसे सरसों के तेल में हथेली पर लेकर अच्छी तरह मिला लें। फिर ऊँगली की सहायता से दांतों सहित मसूढ़ों की भी धीरे-धीरे मालिश करें। इससे दांतों का हिलना ठीक होकर उनमें मजबूती आती है। दांतों में पानी लगने की शिकायत दूर होती है और उनका पीलापन दूर होता है।

7अकरकरा का बारीक़ चूर्ण
अकरकरा का बारीक़ चूर्ण मसूढ़ों पर मलने और कीड़े लगे खोखले दांतों की जड़ में लगने से कृमि नष्ट होकर दर्द बंद हो जाता है। यह औषधि आयुर्वेद दुकानों में या पतंजलि स्टोर में उपलब्ध होती है।

Dentist's सुझाव

जब आप डॉक्टर के पास जाते है तो वो आपको दाँत उखाड़ने या दाँत में RCT (Root Canal Treatment) करवाने की सलाह देते है और क्यूंकि RCT थोड़ी महंगी परिक्रिया है इसलिए हम से कई लोग इसे अफ़्फोर्ड नहीं कर पाते है और दूसरा विकल्प हमारे पास दाँत उखाड़ने की होती है जो हम निकालना नहीं चाहते है।
आइये dentist RCT कैसे करते है इसकी परिक्रिया को समझते है।

Dant Dard ka ilaj

सबसे पहले स्थान पर जो इमेज है वो एक नॉर्मल दाँत की है हमारा दाँत भी इसी प्रकार से बना हुआ है आप देखेंगे की जो पहली सफ़ेद लेयर है जो कि Enamel है, दूसरा लेयर जो कुछ पीली रंग का दिखाई पड़ रही है उसे Dentin कहा जाता है और जो तीसरी लेयर है जिसमें आपकी दाँतों की नशे है Pulp chamber कहते है।

जब दाँतों की पहली सफेद लेयर Cavities लगने पर डैमेज हो जाती है तब कुछ भी खाने पर यह सीधा Dentin पर नुकसान पहुँचता है और धीरे-धीरे यह दाँत के नशों तक चला जाता है फिर खाने की कुछ भी वास्तु अगर नस तक पहुँचती है तो दर्द होना शुरू हो जाती है।
और यह नशे आपकी कान और शिर जुड़ी होती है इसलिए अक्सर दाँतों के दर्द से सिर या कानों में भी दर्द होती है। यदि आप इस परेशानी से जूझ रहे है तो आप बेहतर समझ सकते है।
समय पर दाँतों की ठीक तरह से देखभाल नहीं करने से यह समस्या बढ़ती ही जाती है और धीरे-धीरे यह पूरी तरह से खोखले(खोदाड़) का रूप ले लेता है।

इस कंडीशन में डेंटिस्ट दाँतों का X ray कर इसके जाँच करते है फिर RCT की परिक्रिया शुरू करते है ,
इस परिक्रिया में दाँत के दोनों ऊपरी भाग में टूल के द्वारा सफाई कर वहां से लगे कीड़े (कैविटी) को बाहर निकालते है फिर उसके अंदर Cement(Chemical) रिफिलिंग करते है।

No comments